Easy Ways to Remove Negativity And Bring Happiness Into Your Home This Festive Season


वास्तु टिप्स: दिवाली रोशनी का त्योहार है, पूरे भारत में सबसे प्रमुख हिंदू त्योहार बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। प्राचीन कैलेंडर के अनुसार हर साल कार्तिक मास की अमावस्या को दिवाली मनाई जाती है। 2021 में दिवाली 4 नवंबर (गुरुवार) को मनाई जाएगी।यह भी पढ़ें- दिवाली वास्तु 2021: बेडरूम से लेकर किचन तक, जानिए अपने घर के लिए बेस्ट कलर्स

इस दिन लोग न केवल धन की देवी मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते हैं, बल्कि कुछ वास्तु नियमों को भी अपनाते हैं जो उनके घर में सुख-समृद्धि लाते हैं। यहां कुछ महत्वपूर्ण और आसान वास्तु युक्तियों की सूची दी गई है जो आपको सभी नकारात्मकताओं और समस्याओं को दूर करने और जीवन में समृद्धि, सद्भाव और खुशी लाने में मदद करेगी। यह भी पढ़ें- करियर की सफलता को बढ़ाने, आमंत्रित करने और आकर्षित करने के लिए 7 वास्तु प्रतीक

  • घर की सफाई : सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप अपने घर को साफ-सुथरा बनाएं। टूटे हुए बर्तन, टूटे हुए फर्नीचर, काम न करने वाले इलेक्ट्रॉनिक्स, पुराने कपड़े, बेकार कागज, कुछ ऐसी चीजें जो लंबे समय से इस्तेमाल नहीं हो रही हैं, आदि को त्योहार से पहले हटा देना चाहिए। क्योंकि ऐसी बातों के कारण, राहु, शनि तथा केतु घर में हावी हो जाते हैं, जिससे नकारात्मक ऊर्जा आती है। यह मानसिक तनाव पैदा करता है।
    सकारात्मक ऊर्जा के मुक्त प्रवाह को सक्षम करने के लिए परिसर भी स्वच्छ और अव्यवस्था मुक्त होना चाहिए।
  • पूजा के समय अपना मुख किस ओर रखना चाहिए: लक्ष्मी पूजा हमेशा उत्तर या पूर्व की ओर मुख करके करनी चाहिए। यदि यह संभव न हो तो आप पश्चिम दिशा में भी पूजा कर सकते हैं, लेकिन सुनिश्चित करें कि आपका मुख उत्तर या पूर्व दिशा में हो।
  • मेरु यंत्र पूजा: प्राचीन ग्रंथों के अनुसार मेरु श्री यंत्र की पूजा करना अत्यंत शुभ होता है। यह वास्तु दोषों को दूर करने में सहायक है। वित्तीय समस्या हो या व्यक्तिगत विफलता, मेरु यंत्र सभी के लिए एक समाधान है। यंत्र सभी बाधाओं को दूर करने और सुख-समृद्धि लाने का भी काम करता है। हमारी पौराणिक कथाओं के अनुसार मेरु एक ऐसा यंत्र है जिसमें आध्यात्मिक शक्ति होती है। इस दिन श्री यंत्र और कुबेर यंत्र की भी पूजा करें।
  • लक्ष्मी- गणेश मूर्ति: देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश हमेशा दिवाली के लिए। क्योंकि इसे भाग्यशाली माना जाता है। मूर्ति मिट्टी की होनी चाहिए तो अधिक शुभ होगी यद्यपि आप चांदी या अष्टधातु की मूर्ति ले सकते हैं।
  • घर की सजावट: घर के सामने के क्षेत्र को रंगोली या फूलों से सजाएं, चाहे वह मुख्य द्वार हो या प्रवेश द्वार। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। घर के मुख्य द्वार पर आम के पत्तों या अशोक के पत्तों का बंधनवार लगाएं।
  • घर की पेंटिंग: कुछ लोग त्योहारों के मौसम में घर में सकारात्मकता लाने के लिए अपने घरों को रंगते हैं। हर कमरे की दीवारों को वास्तु के अनुसार पेंट करें। यह परिवार के लिए फायदेमंद होता है। बच्चों के कमरे को हरे रंग से रंगना चाहिए।
  • रंगीन रोशनी का उपयोग कैसे करें: दीपोत्सव के अवसर पर अपने घर और कार्यालय को दीयों और मोमबत्तियों के अलावा रंगीन बल्बों से सजाएं। यदि घर या दुकान का मुख पूर्व दिशा में हो तो पीले रंग की सजावटी बत्तियां लगाएं। दक्षिणमुखी घरों में हरे और नीले रंग की अपेक्षा अधिक लाल बत्ती होनी चाहिए। अगर आपका घर पश्चिम दिशा में है तो नीली और सफेद और कम लाल बत्ती का प्रयोग करें। उत्तर मुखी घरों में हरी और सफेद बत्तियाँ अधिक और लाल बत्तियाँ कम होनी चाहिए।
  • उपहारों का महत्व: दिवाली के दिन दोस्तों और परिवार के सदस्यों को मिठाई और सामान उपहार में देना भी शुभ माना जाता है। पटाखे, काले चमड़े की सामग्री, चाकू या किसी अन्य प्रकार के हथियार उपहार में न दें क्योंकि यह आपके रिश्ते और स्वास्थ्य में भी बाधा डाल सकता है।
  • घर के हर कमरे में दीया जलाएं: दीपावली के दिन हर कमरे में रोशनी करनी चाहिए। इसलिए हर कमरे में दीया या मोमबत्ती जरूर रखें। कुएं, हैंडपंप और पानी की टंकी के पास भी दीपक जलाएं। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।
    इनके अलावा आपको कुछ और बातों का भी ध्यान रखना चाहिए जैसे:
  • वास्तु के अनुसार पूजा में फलों और फूलों का प्रयोग बिना तोड़े ही करना चाहिए।
  • दीपावली पर गरीब कन्याओं को वस्त्र दान करें। यह धन को आकर्षित करता है।
  • पूजा स्थल पर रात भर दीपक जलाएं
See also  Bhai Dooj Vastu Shastra| In Which Direction Brother And Sister Should Sit to Perform Puja

(डॉ. आरती दहिया एक ज्योतिषी, अंकशास्त्री, वास्तु विशेषज्ञ, मानसिक चिकित्सक, और कई अन्य बनने के लिए अपने मिशन पर पहुंचीं। 13 साल हो गए हैं कि उन्होंने लोगों को किसी भी तरह की बाधाओं, प्रतिकूलताओं, समस्याओं से आनंदित करने का संकल्प लिया है। उन्होंने हर कठिनाई के समाधान की कुंजी।) यह भी पढ़ें- नवरात्रि का ज्योतिष 2021: शांति और भाग्य लाने के लिए आपको अपनी राशि के अनुसार मां दुर्गा को क्या खाना देना चाहिए

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *